Tuesday, December 7, 2021

कौन सा मास्क है बेहतर- कपड़े का मास्क, सर्जिकल मास्क या N95, जानिए इनमें अंतर?

Health Tips: कोरोना महामारी जब से दुनिया में आई है तब से लोगों की जिंदगी बदल गई है. कोविड-19 में मास्क अब हर इंसान की जरूरत बन चुका है और हो भी क्यों न, कोरोना से बचने के लिए मास्क ही सबसे बड़ा हथियार है. कोरोना की दूसरी लहर आने के बाद देश भर में कोविड के बढ़ते मामलों के बीच सरकार और मेडिकल एसोसिएशन फिर से लोगों से मास्क के उपयोग को गंभीरता से लेने का आग्रह कर रहे हैं. संक्रमित होने से बचने के लिए मास्क जरूरी है. लोगों को घर पर रहते हुए भी मास्क पहनने की सलाह दी जा रही है. 

आपकी सेहत ही नहीं दिल का भी ख्याल रखती है ब्रोकली, जानिए इसके लाजवाब फायदे

मास्क की उपयोगिता को देखते हुए हमें मास्क के बारे में जानना जरूरी है. आपको पता होना चाहिए कि आप जिस मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं वो असरदार है या नहीं? जैसे की कितने तरह के मास्क होते हैं, घर पर और बाहर मास्क का कैसे इस्तेमाल करना चाहिए और कैसा होना चाहिए. बाजार में कई तरह के मास्क मिलते हैं. कपड़े, सर्जिकल और FFP2S / N95 मास्क. हम आपको बताएंगे इनके अंतर के बारे में और कौन सा मास्क बेहतर है आपके लिए, आइए जानते हैं…

कई रोगों को मिनटों में करेगा दूर तेजपत्ते का काढ़ा, जानें बेशुमार फायदे और बनाने की विधि

कपड़े वाला मास्क
कपड़े के Mask वोवेन या नॉन वोवेन नेचुरल सिंथेटिक मटेरियल की पतली परतों से बनाए जाते हैं. ये मास्क ड्रॉपलेट्स स्प्रे को 8 फीट से 2.5 इंच तक कम कर सकते हैं. होममेड क्लॉथ मास्क की प्रभावशीलता काफी हद तक इसके डिजाइन पर निर्भर करती है. विशेषज्ञों के अनुसार, आपके सिस्टम में वायरस को प्रवेश करने से रोकने के लिए लेयर्ड कॉटन Cloth mask का इस्तेमाल किया जा सकता है. हालांकि, उन पर पूरी तरह से भरोसा नहीं किया जा सकता है क्योंकि छोटे Virus एरोसोल उनमें से गुजर सकते हैं. सिंगल लेयर क्लॉथ मास्क डबल या ट्रिपल लेयर मास्क की तुलना में कम प्रभावी होता है. लोग कपड़े वाला मास्क पहनना पसंद करते हैं क्योंकि इसे पहनने से ज्यादा परेशानी नहीं होती है और ये आरामदायक होता है.

बुखार में कमजोरी दूर करने के लिए खाएं ये 5 चीजें, मिलेगी ताकत और जल्दी होंगे ठीक

सर्जिकल मास्क (Surgical mask)
सर्जिकल मास्क वे होते हैं जो न केवल इस्तेमाल करने वाले के नाक और मुंह को ढकते हैं, बल्कि ये एरोसोल और पार्टिकुलेट मटेरियल्स के लिए एक भौतिक अवरोध के रूप में भी काम करते हैं. सर्जिकल मास्क एक ढीला-ढाला मास्क होता है जो पहनने वाले और संक्रमित व्यक्ति या आस-पास के संभावित कंटैमिनेंट के बीच एक फिजिकल बैरियर पैदा करता है. ये तकरीबन 60 फीसदी रेस्पाइरेटरी पार्टिकल्स को छानने की क्षमता रखता है. 

अगर ठीक से इसे पहना जाए तो सर्जिकल मास्क बड़े-कणों की बूंदों, छींटों, स्प्रे या छींटों को रोकने में मदद कर सकते हैं जिनमें कीटाणु हो सकते हैं. हालांकि, इसकी मेटेरियल के पतले होने और फिटिंग में ढीला होने की वजह से छोटे जर्म पार्टिकल्स अभी भी इन मास्क में अंदर घुस सकते हैं.

शुरुआत में, इस तरह के फेस मास्क का निर्माण पहनने वालों को प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं किया गया था, बल्कि रोगियों को घाव के संक्रमण से बचाने के लिए किया गया था, जो किसी सर्जन या फ्रंटलाइन वर्कर्स के सांस छोड़ने के कारण हो सकता है.

लोग सर्जिकल मास्क पसंद करते हैं क्योंकि इनसे सांस लेने में आसानी होती है. सर्जिकल मास्क को हर इस्तेमाल के बाद डिस्पोज किया जाना चाहिए. ये सपाट, पतले, कागज जैसे मास्क आमतौर पर सफेद और हल्के नीले रंग के होते हैं, जिन्हें एक से अधिक बार नहीं पहनना चाहिए. सार्वजनिक जगहों पर सर्जिकल मास्क पहनने की सलाह दी जाती है.

इन चीजों को खाने के तुरंत बाद भूलकर भी न पीएं पानी, हो सकते हैं बड़े नुकसान

N95/FFP2S मास्क
FFP2S / N95 जिसे रेस्पिरेटर भी कहा जाता है, पहनने वाले की नाक और मुंह के चारों ओर एक तंग सील बनाने के लिए डिजाइन किया गया है. यह 95% से अधिक 0.3 माइक्रोन पार्टिकल्स को फिल्टर कर देता है. ये मुख्य रूप से इनहेलिंग पार्टिकुलेट मैटर से सुरक्षा प्रदान करता है, जो मास्क के किनारों से अपना रास्ता खोज सकते हैं. ये पहनने वाले और संक्रमित व्यक्ति के आस-पास खड़े व्यक्ति दोनों को सुरक्षा प्रदान करता है. N95 mask का डिजाइन इसे डर के अनुकूल बनाता है. जबकि इसकी आंतरिक परतें नमी और पसीने को रोकती हैं, इसलिए इसे पहनने में आराम मिलता है.

कोविड -19 की वर्तमान स्थिति में विशेषज्ञ वायरस के संपर्क में आने से रोकने के लिए डबल मास्किंग का सुझाव देते हैं. मास्क समझदारी और सावधानी के साथ पहना जाना चाहिए, यह सुनिश्चित करते हुए कि नाक और मुंह सही से ढका हो और कोई गैप्स न हो. इसके अलावा, मास्क पहनने से पहले और इसे हटाने के बाद हाथ की स्वच्छता का पूरा ध्यान दें. हमेशा दिए गए निर्देशों के अनुसार जिम्मेदारी के साथ इसे डिस्पोज करें.

इस तरह न करें तुलसी के पत्तों का सेवन, सेहत को हो सकता है खतरा, जानिए सही तरीका

WATCH LIVE TV

 

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments