Saturday, December 4, 2021

Lunar Eclipse 2021: चंद्रग्रहण के दौरान लोग मानते हैं स्वास्थ्य से जुड़े ये नियम, जानें क्या कहता है विज्ञान

इस साल का पहला चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse 2021) आज यानी 26 मई 2021 को पड़ रहा है। दरअसल, आज लोगों को चंद्र ग्रहण (Chandra grahan 2021 date and time in india) के साथ सुपर ब्लड मून भी देखने को मिलेगा। आज पड़ने वाला चंद्र ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण है, जिसमें चंद्रमा के आकार में कोई बदलाव नहीं आएगा, बस उसका रंग मटमैला नजर आएगा। लेकिन भारत में चंद्र ग्रहण से जुड़े कुछ स्वास्थ्य नियमों को फॉलो किया जाता है। क्योंकि यह मान्यता है कि चंद्र ग्रहण से हमारे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। आइए इन नियमों और उन पर विज्ञान की राय जानते हैं।

ये भी पढ़ें: Ayurveda: तरबूज के बाद पानी पीने से क्यों मना करता है आयुर्वेद? क्या सच में आपको हैजा हो सकता है?

भारत में चंद्र ग्रहण 2021 का दिन और समय (Chandra Grahan date and time in india)
चंद्र ग्रहण कब लगेगा: आज यानी 26 मई 2021 को पड़ने वाला चंद्र ग्रहण दोपहर 3 बजकर 15 मिनट पर शुरू होकर शाम 6 बजकर 23 मिनट तक चलेगा। जो कि भारत के पूर्वी क्षेत्रों में दिखाई दे सकता है।

चंद्र ग्रहण 2021 से जुड़े स्वास्थ्य नियम (Health Rules during lunar eclipse 2021)
चंद्र ग्रहण के दौरान आज भी लोग कई मान्यताओं पर विश्वास करते हैं। उनके मुताबिक ऐसा करने से आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर नहीं पड़ेगा। आइए इन नियमों के बारे में जानते हैं।

  1. लोगों की मान्यता है कि चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2021) के दौरान निकलने वाली हानिकारक किरणे पहले से पका कर रखे गए खाने को खराब कर देती हैं। इसलिए खाना बनाकर नहीं रखना चाहिए या फिर चंद्र ग्रहण के दौरान खाना नहीं खाना चाहिए।
  2. समाज में यह भी मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के दौरान निकलने वाली खतरनाक तरंगे गर्भवती महिलाओं और उनके गर्भ में मौजूद शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा असर डालती हैं। इसलिए चंद्र ग्रहण के दौरान उन्हें घर से बाहर निकलने से मना किया जाता है।
  3. लोग मानते हैं कि चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए, क्योंकि इसके दौरान निकलने वाली हानिकारक तरंगे आंखों पर बुरा असर डालती हैं।

ये भी पढ़ें: अगर रोजाना अपनाएंगे ये घरेलू उपाय तो सिर्फ 2 हफ्ते में घट जाएगा वजन!

Chandra Grahan 2021: क्या कहता है विज्ञान?
;चंद्र ग्रहण 2021 (Chandra Grahan 2021) पर लोगों की मान्यताओं के विपरीत विज्ञान में इन प्रभावों का कोई प्रमाण नहीं है। एक रिपोर्ट के मुताबिक नासा को इन बातों का कोई प्रमाण नहीं मिला है और वह इन मान्यताओं के पीछे गंभीर मनोवैज्ञानिक प्रभावों को कारण मानते हैं। हालांकि, 33 लोगों पर की गई एक स्टडी में चंद्र ग्रहण के दौरान मनुष्य की नींद में कमी देखी गई है। मगर इस पर पर्याप्त अध्ययन होना बाकी है।

यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं पर आधारित है। इसकी हम पुष्टि नहीं करते हैं।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments